हमारे बारे में

'स्त्रीकाल', स्त्री का समय और सच हिन्दी में स्त्री मुद्दों पर एक ठोस वैचारिक पहल है, जिसने पाठकों और अध्येताओं का विश्वास हासिल करने में सफलता पाई है। इस अनियतकालीन पत्रिका का हर अंक संग्रहणीय रहा है।  अब तक हमने स्त्रीकाल के  कई अंक प्रकाशित किये हैं , जिनमें स्त्री सत्ता : यथार्थ या विभ्रम , वैयक्तिक , राजनीतिक और दलित स्त्रीवाद विशेषांक क़ॆ रूप में प्रकाशित हुए हैं.

स्त्रीकाल  की ओर से देश के विभिन्न शहरों में स्त्रीवादी मुद्दों पर विचार शृंखलाओं  का आयोजन कर पितृसत्ता के खिलाफ एक संवाद का माहौल बनाने का प्रयत्न भी हम करते रहे हैं. अकादमिक और वैचारिक पहलों के अगले कदम के तौर पर स्त्रीकाल  का यह वेब एडिशन नियमित संचालित हो रहा है . इसके  वेब संस्करण में आपका स्वागत है। आपके सुझाव, लेख और टिप्पणियाँ आमंत्रित हैं.

संपादक मंडल :  देखने के लिए क्लिक करें 

शोध-द्विमासिक : विभिन्न विषयों में स्त्रीवादी शोध-आलेख, अंतरअनुशासनिक स्त्रीवादी शोध-आलेख,  हमलोग प्रिंट और ऑनलाइन माध्यमों में प्रकाशित करते रहे हैं. हमारे दोनो माध्यमों के प्रकाशनों को इंटरनेशनल स्टैण्डर्ड सीरियल नंबर की संस्था ने स्वीकृति दी है. पत्रिका में प्रकाशन जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली विश्वविद्यालय, जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय सहित विभिन्न विश्वविद्यालयों में अकादमिक मान्यता प्राप्त रहे हैं. शोध आलेखों के नियमित ऑनलाइन प्रकाशन (2014 से ) के अलावा हमलोग द्विमासिक शोध
पत्रिका (ऑनलाइन) का प्रकाशन जुलाई 2017 से करने जा रहे हैं.

विषय -विशेषज्ञ :                 देखने के लिए क्लिक करें 

आईएसएस एन नम्बर :       प्रिंट :         ISSN 2249-4146
                                             ऑनलाइन:    ISSN 2394-093X


प्रकाशन का वर्ष :                      प्रिंट : 2004 से 
                                             ऑनलाइन : 2014 से 

प्रकाशन की प्रक्रिया और शर्तें:  आलेख, रचनाएं, यूनिकोड या कृतिदेव में टाइप्ड, प्रूफ कर लेखक की ओर से फायनल हों. स्त्रीकाल किसी भी प्रकार की नकल या पुनर्प्रस्तुति के पक्ष में नहीं है और यदि ऐसे लेख/ रचनायें हमें प्राप्त होते हैं, और प्रकाशन के पूर्व या प्रकाशित होने के बाद हमें पता चलता है, तो हम कानूनी पहल के लिए स्वतंत्र होंगे. शोध-आलेख प्रकाशन के पूर्व विषय विशेषज्ञों की राय के लिए उन्हें भेजे जाते हैं, उनकी संस्तुति के बाद ही शोध आलेख प्रकाशित होंगे.  प्रकाशन का अंतिम निर्णय संपादक मंडल और संपादक  का होगा. 



प्रकाशन और संचालन

संजीव चन्दन द्वारा 'द मार्जिनलाइज्ड' के लिए सम्पादित , प्रकाशित और संचालित . प्रकाशन , प्रिंट एडिशन : विकास कंप्यूटर एंड प्रिंटर्स, नवीन शहादरा, दिल्ली से मुद्रित .

स्त्रीकाल के साथ पत्रकारिता करें, इंटर्नशिप करें 

आप कहीं भी हों, किसी भी शहर में, यदि आप जर्नलिज्म के विद्यार्थी हैं या स्त्री अध्ययन और जेंडर स्टडीज के विद्यार्थी हैं, तो आईये हमसे जुड़ें, आपका स्वागत है. आप अपने विश्ववविद्यालय, कॉलेज या शहर से ही अपना एक संक्षिप्त जीवन-परिचय (बायोडाटा) भेजें और फिर शुरू हो जाएँ. आप अपने आस-पास की खबरें हमें भेजें, लिखकर या अपने मोबाइल अथवा कैमरे से रिकार्ड कर-जनपक्षधर खबरें और वैसी खबरें जो समाज में जेंडर विभेद को सामने लाये या उन्हें तोड़ने में मददगार हो. स्त्री अध्ययन और जेंडर स्टडीज के विद्यार्थी शोधपरक लेख, मूल्यांकन, विश्लेषण भेज सकते हैं/ सकती हैं. आपके द्वारा भेजी गयी खबरों/ वीडियो या लेख, मूल्यांकन और विश्लेषण को हमलोग स्त्रीकाल में ऑनलाइन प्रकाशित प्रसारित करेंगे.

छः महीने तक योगदान के बाद हम आपको इंटर्नशिप का प्रमाणपत्र जारी करेंगे. वर्ष में सर्वश्रेष्ठ खबर/वीडियो/विश्लेषण को हमलोग सम्मानित भी करेंगे.

नोट: स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह 'द मार्जिनलाइज्ड' नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. 'द मार्जिनलाइज्ड मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का संस्थान है.


 संपर्क :
The Marginalised , an Institute for Alternative Research & Media Studies, C/O Ashok D. Meshram, Sanewadi Wardha , Maharashtra, 442001
email : themarginalised@gmail.com, Mob: 8130284314



Blogger द्वारा संचालित.