डॉक्टर मनीषा बांगर 'वायस ऑफ पीपल' सम्मान से हुईं सम्मानित !





 राजीव कुमार सुमन   
                                                                           
14 सिंतबर 2018 को दिल्ली के माता सुंदरी रोड पर स्थित एवान-ए-गालिब ऑडिटोरियम में पल-पल न्यूज वेब पोर्टल की तरफ से आयोजित कार्यक्रम और सम्मान समारोह में मुद्दों और सरोकारों से जुड़े सोशल मीडिया के कई जाने-माने पत्रकारों और व्यक्तियों को 'वायस ऑफ पीपल' सम्मान से सम्मानित किया गया। सम्मान पानेवालों में तीन महिलाएं -- पत्रकार भाषा सिंह, सम्पादक प्रेमा नेगी और बामसेफ की बहुजन नेत्री डॉ मनीषा बांगर शामिल हैं.



पेशे से गैस्ट्रोएन्टरोलोजिस्ट चिकित्सक डॉ. मनीषा बांगर बामसेफ की पूर्व उपाध्यक्ष रही हैं और बहुजन समाज की प्रगति केलिए लगातार सक्रिय रहने के लिए उन्हें यह सम्मान दिया गया. सोशल मीडिया खासकर फेसबुक, ट्विटर और यु-ट्यूब वीडियो के माध्यम से वामसेफ की राजनीति और बहुजन मुद्दों पर अपनी बेबाक बात रखने केलिए वे मशहूर हैं.

पूर्व राज्य सभा सांसद अली अनवर और पूर्व आईपीएस एसआर दारापुरी के हाथों सम्मानित किए जाने के बाद डॉ मनीषा बांगर ने कहा कि 'यह पुरस्कार मेरे लिए बहुत मायने रखता है क्योंकि मीडिया वर्ल्ड में मेरी यह धमक बामसेफ की बैठकों में मेरे विचार से लेकर एक विशेषज्ञ चिकित्सक  होने के नाते मेरी राय जानने तक ही सिमित रही थी, किन्तु मुंबई और दिल्ली में नेशनल इंडिया न्यूज नाम के न्यूज नेटवर्क मीडिया की शुरुआत करने के बाद, जिसमें मेरे कार्यक्रमों को चार लाख से ज्यादा की सदस्यता के साथ और केवल चार महीने में ही दो करोड़ से ज्यादा लोगों द्वारा देखा गया है, मैं उन सभी लोगों को धन्यबाद करती हूं जिन्होंने मुझ पर विश्वास किया और मुझे समर्थन दिया और उनको भी जिन लोगों ने मेरा विरोध किया। यह पुरस्कार इन दोनों कारणों से एक बड़ी भूमिका निभाता है, जिसे मैंने अपने देश के लोकत्रांत्रिक मूल्यों और लोकतांत्रिक फेवरिक को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार नागरिक के साथ-साथ चुनौती के रुप में लिया है।'


वहीँ कार्यक्रम को कई जाने-माने मीडिया कार्यकर्ताओं ने संबोधित किया. कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश ने कहा कि यह भारतीय मीडिया का सबसे बुरा दौर है। उन्होंने कहा कि मीडिया बजाय सत्ता से सवाल पूछने के उल्टे सत्ता पक्ष की तरफ से सवाल पूछ रहा है। पल पल न्यूज़ की संपादक खुश्बू अख्तर के यूट्यूब चैनल की सराहना करते हुए कहा कि ऐसे लोग लोग बधाई के पात्र हैं, जिन्होंने सच बोलने के लिये नये विकल्प ईजाद किये हैं।

प्रोफेसर रतन लाल ने कहा कि वाटसप यूनीवर्सिटी से मिलने वाली‘शिक्षाओं’के दौर में फेक न्यूज़ का चलन बहुत अधिक बढ़ गया है। उन्होंने कहा कि समय है कि अब न सिर्फ फेक न्यूज़ बल्कि फेक जर्नलिस्टों के खिलाफ भी अभियान चलाया जाए।

आम आदमी पार्टी से आए संजय सिंह ने बीजेपी के इशारे पर चल रहे पत्रकारों को जमकर लताड़ा और कहा कि बड़े-बड़े चैनल के पत्रकार आजकल बीजेपी के प्रवक्ता बनकर विपक्ष से सवाल कर रहे हैं और देख कर अच्छा लगता है की जब इन पत्रकारों से सवाल करने के लिए एक अल्टरनेटिव मीडिया का तबका  सरकार और गोदी मीडिया के इस रवयै पर खुलकर सवाल उठा रहा है जिसमें दी वायर,पलपल न्यूज और बोलता हिंदूस्तान अपनी भूमिका को ईमानदारी के साथ उठा रहा है.

कार्यक्रम में अनेक बुद्धिजीवी, पत्रकार, लेखक और समाजिक कार्यकर्ताओं ने शिरकत की थी। इस मौके पर समाजिक कार्यकर्ताओं, एंव अलग अलग क्षेत्रों के युवाओं को सम्मानित किया गया। इस कार्यक्रम को जेएनयू के लापता नजीब अहमद की मां फातिमा नफीस, राज्य सभा के पूर्व सांसद अली अनवर, पूर्व आईपीएस एसआर दारापुरी, वरिष्ठ पत्रकार प्रशांत टंडन, अभिषेक श्रीवास्तव, आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता एंव राज्यसभा सांसद संजय सिंह, जिग्नेश मेवानी आदि ने संबोधित किया।

लिंक पर  जाकर सहयोग करें , सदस्यता लें :  डोनेशन/ सदस्यता
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह 'द मार्जिनलाइज्ड' नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. 'द मार्जिनलाइज्ड' के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  अमेजन ,   फ्लिपकार्ट से ऑनलाइन  खरीदें 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016, themarginalisedpublication@gmail.com
Blogger द्वारा संचालित.