वर्मा जी,शर्मा जी, रावत जी, सबके हैं संबंध बच्चियों के बलात्कार काण्ड से


स्त्रीकाल डेस्क 
इधर देश का ध्यान मीडिया ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की लम्बी बीमारी के बाद मृत्यु पर केन्द्रित कर रखा है उधर जैसे-जैसे सीबीआई की जांच आगे बढ़ रही है बिहार की बेटियों के जीवन को आपदाग्रस्त बनाने वालों में सत्तापक्ष के एक से बढ़कर एक नेताओं की संलिप्तता सामने आ रही है. जदयू सहित भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की संलिप्तता की बातें कही जा रही हैं, सामने आ रही हैं. वर्मा जी के नाम के साथ शर्मा जी का नाम बहुत पहले से लोगों, और विपक्ष की जुबान पर है अब पूर्व मंत्री रावत जी का भी नाम सुर्खियों में है. 


पूर्व मंत्री दामोदर रावत और उनका बेटा राजीव रावत 


रावत कनेक्शन: 

मामले में अपने पति चंद्रेश्वर वर्मा का नाम आने के बाद सूबे की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा ने पहले ही इस्तीफा दे दिया था अब सीबीआई के रेड में अपने आवास पर 50 से ज्यादा ज़िंदा कारतूस मिलने के बाद वे और उनके पति आर्म्स एक्ट के तहत एक ऍफ़आईआर भी अपने ऊपर ले चुके हैं. इस बीच पूर्व समाज कल्याण मंत्री दामोदर रावत और उनके बेटे राजीव रावत  के तार इस कांड से जुड़ते नजर आ रहे हैं जिसको लेकर जेडीयू ने कड़ी कार्रवाई की है.

सीबीआई को इस बात के सबूत मिले हैं कि इस कांड के मुख्य आरोपी बृजेश ठाकुर के राजीव रावत के साथ संबंध थे. इस बात का खुलासा होने के बाद जेडीयू ने राजीव रावत को पार्टी से निकाल दिया है. राजीव रावत युवा जेडीयू का प्रदेश महासचिव था. युवा जेडीयू के अध्यक्ष अभय कुशवाहा ने कहा कि राजीव रावत को पार्टी ने अनुशासनहीनता की वजह से  बाहर का रास्ता दिखाया है. मुजफ्फरपुर कांड को लेकर CBI जल्द पूर्व समाज कल्याण विभाग के मंत्री दामोदर रावत और उसके बेटे से पूछताछ कर सकती है.

सूत्रों के अनुसार सीबीआई को इस बात के  सबूत मिले हैं कि बृजेश ठाकुर के मुजफ्फरपुर स्थित आरएम होटल में  पूर्व समाज कल्याण मंत्री दामोदर रावत का बेटा राजीव रावत अपने दोस्तों के साथ अक्सर जाया करता था और अय्याशी किया करता था. बृजेश ठाकुर ने राजीव रावत का सहारा लेकर ही उस वक्त के समाज कल्याण मंत्री दामोदर रावत से संपर्क साधा और उनके मंत्री रहते समाज कल्याण विभाग से उन्हें अपने एनजीओ के लिए पैसा मिला. तत्कालीन समाज कल्याण विभाग के मंत्री दामोदर रावत पर आरोप लग रहे हैं कि उन्होंने बृजेश ठाकुर को अवैध तरीके से फायदा पहुंचाया.
मुजफ्फरपुर के विधायक और मंत्री  सुरेश शर्मा


शर्मा कनेक्शन
मुजफ्फरपुर में शेल्टर होम का मामला सामने आने के बाद से ही वहां के भाजपा विधायक और सरकार में मंत्री सुरेश शर्मा के ब्रजेश ठाकुर से रिश्तों की बात कही जाती रही है. विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने उनसे इस्तीफा भी माँगा था, जिसके बाद मंत्री ने उन्हें मानहानि की नोटिस भेज दी थी. शनिवार को राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और कांग्रेस ने शनिवार को मुजफ्फरपुर आश्रय गृह (शेल्टर होम) दुष्कर्म मामले में संलिप्तता का आरोप लगाते हुए उनका  लिए बगैर विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने शनिवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मंत्री और मुजफ्फरपुर से विधायक को बर्खास्त करने की मांग की. यादव ने चेतावनी देते हुए कहा कि वह मामले में मंत्री की संलिप्तता उजागर करेंगे. हालांकि भाजपा के इस मंत्री को लेकर भाजपा के नेता उतने तत्पर नहीं हैं, जितना वे मंत्री मंजू वर्मा के मामले में थे. मंजू वर्मा के इस्तीफे के लिए सक्रिय बयान देने वाले भाजपा के वरिष्ठ नेता सीपी ठाकुर ने शर्मा के इस्तीफे के सवाल पर टालने वाले बयान दिये.
पढ़ें:  बिहार में बच्चियों के यौनशोषण के मामले का सच क्या बाहर आ पायेगा?
        बच्चों के यौन उत्पीड़न मामले को दबाने, साक्ष्यों को नष्ट करने की बहुत कोशिश हुई: एडवोकेट अलका           वर्मा
   उस बलात्कारी की क्रूर हँसी को, क्षणिक ही सही, मैंने रोक दिया: प्रिया राज

स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह 'द मार्जिनलाइज्ड' नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. 'द मार्जिनलाइज्ड' मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का कार्य करती है.
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
लिंक  पर  जाकर सहयोग करें :  डोनेशन/ सदस्यता 
'द मार्जिनलाइज्ड' के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें :  फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें उपलब्ध हैं. ई बुक : दलित स्त्रीवाद 

संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.co
Blogger द्वारा संचालित.