अब क्या करेंगे नीतीश कुमार: मंत्री के पति से ब्रजेश ठाकुर के 17 बार सम्पर्क का सबूत आया सामने


स्त्रीकाल डेस्क 

एक ओर सुप्रीम कोर्ट, हाई कोर्ट के रुख से मुजफ्फरपुर की बच्चियों को न्याय मिलने की आशा जागी है, वहीं सीबीआई के बढ़ते जांच में मुख्य अभियुक्त ब्रजेश ठाकुर के कॉल डिटेल से बड़ा खुलासा हुआ है। उसके साथ समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति चंद्रेश्वर वर्मा का 17 बार सम्पर्क की हुई है पुष्टि। उधर सुप्रीम कोर्ट ने ब्रजेश ठाकुर की पत्नी को भी गिरफ्तार करने को कहा है, जिन्होंने बच्चियों की तस्वीरें सार्वजनिक की है।

चंद्रेश्वर वर्मा पत्नी मंजू वर्मा के साथ 

मुजफ्फरपुर मामले की जांच में लगे अधिकारियों को प्रारंभिक छानबीन में पता लगा है कि मंजू वर्मा के पति चंद्रेश्वर वर्मा मामले में मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के संपर्क में थे।इस खुलासे के बाद बिहार की राजनीति में बवाल मचना तय है। 

जांच में लगे अधिकारियों का कहना है कि ट्रैवल एजेंट का रिकार्ड खंगालने पर शायद कुछ सुबूत उनके हाथ लग जाये। वहीं, जदयू  के भी कई नेता मान रहे हैं कि अगर ब्रजेश के साथ दोस्ती या मेहरबानी के कोई सुबूत सामने आते हैं तो मंत्री मंजू वर्मा का इस्तीफा तय है। भाजपा के कई कद्दावर नेताओं ने पहले ही मंजू वर्मा की बर्खास्तगी की मांग की है।हालांकि सुशील मोदी ने ट्वीट के जरिए मंजू वर्मा का बचाव किया था।

मुजफ्फरपुर में बच्चियों के यौन शोषण की घटना को जानने के लिए पढ़ें : बिहार में बच्चियों के यौनशोषण के मामले का सच क्या बाहर आ पायेगा?

तब मामले का खुलासा होने के बाद मंत्री ने खुद कहा था कि अगर आरोप तय हो जाए तो इस्तीफा दे दूंगी। मंत्री ने एक कार्यक्रम के दौरान यह भी कहा था कि अगर आरोप सिद्ध हो जाए तो मैं पति को खुद लटका दूंगी।

इससे पहले बाल कल्याण पदाधिकारी रवि रौशन की पत्नी ने आरोप लगाया था कि मंजू वर्मा के पति बालिका गृह आते थे और सबको नीचे में छोड़ खुद लड़कियों के पास जाते थे। उनपर कार्रवाई क्यों नहीं की जा रही है? रवि रौशन की पत्नी के इस बयान के बाद विपक्ष ने मंजू वर्मा से इस्तीफे की मांग की थी।
पढ़ें : मंत्री के पति का उछला नाम तो हाई कोर्ट में सरेंडर बिहार सरकार: सीबीआई जांच का किया आदेश

स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह 'द मार्जिनलाइज्ड' नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. 'द मार्जिनलाइज्ड' मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का कार्य करती है.
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
लिंक  पर  जाकर सहयोग करें :  डोनेशन/ सदस्यता 

'द मार्जिनलाइज्ड' के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें :  फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें उपलब्ध हैं. ई बुक : दलित स्त्रीवाद 


संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com

Blogger द्वारा संचालित.