नीतीश सरकार के खिलाफ देशव्यापी प्रदर्शन 30 जुलाई को


स्त्रीकाल डेस्क 

मुजफ्फरपुर बालिका-संरक्षण गृह में बच्चियों से बलात्कार के मामले में यद्यपि राज्यसरकार ने सीबीआई जांच का आदेश दे दिया है, लेकिन सरकार के खिलाफ जनाक्रोश और व्यापक हुआ है.  कहा जाता है कि 25 जुलाई को न्यायालय में जनहित याचिका की सुनवाई और विपक्ष के व्यापक दवाब में राज्यसरकार ने सुनवाई के पहले ही सीबीआई जांच की घोषणा कर दी थी. लेकिन स्त्रीकाल में याचिकाकर्ता की रिपोर्ट के अनुसार कोर्ट में सरकार का रुख याचिकाकर्ताओं के खिलाफ घृणा वाला था और घटना पर वह पर्देदारी के पक्ष में दिख रही थी.



राज्यसरकार को कारगर कार्रवाई में भी दो महीने लग गये, जबकि मुख्य आरोपी के बड़े कनेक्शन की कहानियाँ मीडिया और सोशल मीडिया में खूब उछलीं. यहाँ तक कि मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर को पुलिस रिमांड पर लेने में भी पुलिस सफल नहीं हुई. इस बीच इस मामले में मंत्री-कनेक्शन भी सामने आया. यह सब देखते हुए मामले की व्यापक जांच, जांच का दायरा राज्यभर में फैलाने की मांग और राज्य के मुखिया का स्टेट संरक्षित इस शोषण की जिम्मेवारी लेते हुए इस्तीफे की मांग तेज हो रही है.

'राइड फ़ॉर जेण्डर फ्रीडम' की कॉल पर राइड फ़ॉर जेण्डर फ्रीडम, एनएफआईडवल्यू और स्त्रीकाल द्वारा बिहार भवन, दिल्ली पर 30 जुलाई को 2 बजे से प्रदर्शन की घोषणा के बाद देश भर में विरोध प्रदर्शन की तैयारी की खबर है. इस मुहीम से पहले वेब पोर्टल टेढ़ी उंगली जुड़ा और देखते देखते देश भर से लोग जुड़ने लगे. अभी तक कई शहरों में प्रदर्शन की खबर है.

पढ़ें : बिहार में बच्चियों के यौनशोषण के मामले का सच क्या बाहर आ पायेगा?

'राइड फॉर जेंडर फ्रीडम' के तहत देश भर  में चार साल से सायकलिंग कर रहे राकेश ने कहा कि 'मुजफ्फरपुर के बालिका आश्रय गृह में बच्चियों से बर्बरता स्टेट संरक्षित यौन हिंसा का एक पैटर्न है, जिसके पूरे राज्य में फैले होने की संभावना है. इस मामले में पूरे राज्य की बालिका-आश्रय गृहों की जांच और इसकी जिम्मेवारी लेते हुए राज्य के मुखिया नीतीश कुमार के इस्तीफे की हमारी मांग है.' उन्होंने बताया कि 'अब प्रदर्शन का स्वरूप व्यापक हो गया है. 30 जुलाई को10 बजे से 5 बजे तक देश भर में एक साथ कई शहरों में होंगे प्रदर्शन।'

पढ़ें   मंत्री के पति का उछला नाम तो हाई कोर्ट में सरेंडर बिहार सरकार: सीबीआई जांच का किया आदेश

प्रदर्शन को समूह को-आर्डीनेट कर रही श्वेता यादव ने सोशल मीडिया में पोस्ट लिखकर सूचित किया है कि तमाम शहरों के उन साथियों का नंबर शेयर कर रही हूँ जो इन शहरों में प्रोटेस्ट को कोआर्डिनेट करेंगे.. इन साथियों के अलावा भी आप अपने-अपने शहरों से अपने हिसाब से जुड़ने के लिए स्वतंत्र हैं.. बैनर आपका पोस्टर आपका बस दुःख और लड़ाई साझी ... एक बात साफ़ कर दूँ इसे किसी एक का प्रयास नहीं बल्कि साझा प्रयास समझा जाए.. क्योंकि जब दुःख साझें हो तो उससे लड़ाई भी साझी ही लड़नी होगी ...

समूह को-आर्डीनेटर-
श्वेता यादव, सुशील मानव

8587928590, 6393491351

दिल्ली-
एनी राजा- 9868181992, राकेश- 9811972872
संजीव चन्दन- 8130284314,

बनारस-
स्वाति सिंह - 8423571891, 8808365427
बिहार-
मकेश्वर रावत - 9932534537
आजमगढ़
पूनम तिवारी, कमला सिंह -9455356786
गोरखपुर -
धीरेन्द्र प्रताप -8960043920
गोधरा
नरेंद्र परमार -9978368373
चेन्नई -
भारती कन्नान -9940220091
वर्धा-
नरेश गौतम-8007840158,
नूतन मालवी -9325222427
देहरादून-
स्वागता -7409426643
इलाहबाद-
सुनील मानव -6393491351
जौनपुर-
श्वेता यादव -8587928590
हिमांचल प्रदेश-
मिनहास -7018520132
जयपुर-
संदीप मील-9116038790
छत्तीसगढ़-
संदीप यादव -9560554552

श्वेता के अनुसार और भी लोग इस मुहीम से जुड़ते जायेंगे. 

स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह 'द मार्जिनलाइज्ड' नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. 'द मार्जिनलाइज्ड' मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का कार्य करती है.
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
लिंक  पर  जाकर सहयोग करें :  डोनेशन/ सदस्यता 

'द मार्जिनलाइज्ड' के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें :  फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें उपलब्ध हैं. ई बुक : दलित स्त्रीवाद 

संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com

Blogger द्वारा संचालित.