स्कूलों में लगायें सैनिटरी पैड वेडिंग मशीन: राष्ट्रीय महिला आयोग ने लिखा शिक्षा मंत्री को पत्र


प्रियंका 

राष्ट्रीय महिला आयोग ने पिछले दिनों केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को पत्र लिखकर कहा कि सैनिटरी उत्पादों की अनुपलब्धतता की वजह से 23 प्रतिशत लड़कियां स्कूल नहीं आती या स्कूल छोड़ देती हैं. आयोग ने इसके मद्देनजर देशभर के स्कूलों एवं कॉलेजों में सैनिटरी नैपकिन वेंडिंग मशीन और नैपकिन निस्तारण मशीन लगाने पर विचार करने को कहा है। आयोग के एक कर्मी के अनुसार मंत्रालय को लिखे गये पत्र में यह भी कहा गया कि जब बात स्वच्छता और साफ - सफाई की आती है तो छात्रओं को खासी मुश्किल का सामना करना पड़ता है क्योंकि कई शैक्षणिक संस्थान न्यूनतम मानकों पर भी खरे नहीं उतरते।



सैनिटरी पैड के सुरक्षित निस्तारण और प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत मिशन को आगे बढ़ाने के प्रयासों के तहत महिला आयोग ने मंत्री से स्कूलों और विश्वविद्यालयों में पर्यावरण के अनुकूल निस्तारण मशीनें लगाने पर भी विचार करने को कहा ताकि वह पर्यावरण और लोक स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव न डालें।

स्त्रीकाल में पढ़ें इस विषय पर विविध लेख:

महावारी से क्यों होती है परेशानी 

उस पेड़ पर दर्जनो सैनिटरी पैड लटके होते थे

जजिया कर से भी ज्यादा बड़ी तानाशाही है लहू पर लगान

फिल्म तो हिट होती रहेंगी, माहवारी स्वच्छता को हिट करें

वित्तमंत्री को सेनेटरी पैड भेजने की मुहीम: एसएफआई और कई संगठनों ने देश भर में आयोजित किया कैम्पेन

गांधी के गाँव से छात्राओं ने भेजा प्रधानमंत्री और वित्तमंत्री को सेनेटरी पैड: जारी किया वीडियो

"मैना का ख़ून" और ज़ूबी मंसूर की अन्य कविताएं

यह लेख/विचार/रपट आपको कैसा लगा. नियमित संचालन के लिए लिंक  क्लिक कर आर्थिक सहयोग करें: 
                                             डोनेशन 

 स्त्रीकाल का संचालन 'द मार्जिनलाइज्ड' , ऐन इंस्टिट्यूट  फॉर  अल्टरनेटिव  रिसर्च  एंड  मीडिया  स्टडीज  के द्वारा होता  है .  इसके प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें : 
अमेजन पर   सभी  किताबें  उपलब्ध हैं. फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें उपलब्ध हैं.

संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com 

Blogger द्वारा संचालित.