शनि मंदिर के प्रभावशाली महंत दाती महाराज पर बलात्कार का आरोप, जल्द हो सकती है गिरफ्तारी

डेस्क 
आसान नहीं होगा हर बार की तरह इस बार भी पीडिता के लिए न्याय पाना लेकिन हर उन पीड़िताओं की तरह इसने भी ठान लिया है एक स्वयंभू धर्म-ठेकेदार को सजा दिलाने का. यह मामला दिल्ली के सबसे भव्य शनि मंदिर का है जो इन्हीं कुछ वर्षों में लोकप्रिय होता गया था, जैसे-जैसे लोगों में असुरक्षा, भयबोध बढ़ा शनि एक देवता के रूप में कई सारे देवताओं को पीछे छोडने लगे और दिल्ली के फतेहपुरी के असोला का शनि धाम मंदिर का पुजारी मदन दाती महाराज बनता गया. उसी पर उसकी शिष्या ने बलात्कार का आरोप लगाया है.

आरोपी दाती महाराज 

आरोपी की ताकत 

कहा जाता है कि केंद्र के दो मंत्री सहित दिल्ली पुलिस के 1 आईपीएस सहित केंद्र सरकार में कई आईएएस इसके भक्त हैं और उसी के चलते इस समय वो लोग अच्छी पोस्ट पर भी बैठे हैं। हाल में ही इसने राजस्थान में एक वरिष्ठ आईपीएस की तैनाती करवाई थी जिसको लेकर ये चर्चा में भी आए थे,जिसमें स्वयं राजस्थान की सीएम ने हस्तक्षेप किया था।  इसके अलावा मध्य प्रदेश सरकार में भी इसकी अच्छी पैठ है और वहां से अधिकांश नेता दिल्ली में इनके आश्रम में आते हैं। संघ के नेताओं के साथ भी इसके अच्छे संबंध हैं, ऐसे में पीडिता की लड़ाई आसान नहीं होगी. उसके साहस की तारीफ़ होनी चाहिए.

आरएसएस  का प्रभावशाली नेता रामलाल दाती महाराज उर्फ़ मदन को मोदी सरकार की उपलब्धियों की किताबा भेंट करते हुए 


असोला के शनी मंदिर के बारे में दावा है कि दुनिया में शनि की यह सबसे ऊंची मूर्ति है। 31 मई, 2003 को शंकरचार्य स्वामी माधवराशराम महाराज ने मूर्ति का अनावरण किया था। लंबे समय से स्थापित कई अन्य मानव निर्मित मूर्तियां हैं, फिर भी यह दुनिया भर से भगवान शनि के भक्तों के लिए आकर्षण का केंद्र बन गया है। इस मूर्ति की स्थापना के बाद मदन उर्फ़ दाती महाराज ने पीछे मुड़कर नहीं देखा. वह मीडिया में भी एक चेहरा बनता गया. इसका भक्तों के लिए मन्त्र है 'शनि शत्रु नहीं मित्र है.'  इसके साथ ही इसने अकूत सम्पत्ति भी बनाई है .दिल्ली के फतेहपुर बेरी और राजस्थान के पाली में उसका फार्महाउस है, जिसमें वह आश्रम चलाता हैं। दाती की खुद की वेबसाइट भी है, तो वहीं दावा किया जाता है कि दाती समाज सेवा व बच्चियों की पढ़ाई-लिखाई करवाने के क्षेत्र में भी सक्रिय हैं।

गिरफ्तारी से पहले होगी जांच 

पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के मुताबिक दाती मदन के खिलाफ उनकी शिष्या की शिकायत पर रेप जैसे संगीन अपराध का मामला दर्ज किया गया है, लेकिन ये मामला दो वर्ष पुराना है जिसके कारण मामले में गिरफ्तारी करना जल्दबाजी होगी। वरिष्ठ अधिकारियों के मुताबिक इस मामले में दाती मदन के आश्रम के लोगों से संपर्क साधा गया है ताकि जांच की जा सके। लेकिन बताया जाता है कि एफआईआर दर्ज की बात से ही वह फरार है, जिसके कारण अब उनकी गिरफ्तारी तय मानी जा रही है।

असोला का शनि मन्दिर 


पुलिस को दी अपनी शिकायत में पीड़िता ने अपना व अपने परिवार की जान का खतरा जताया है। उसका कहना है कि दुष्कर्म करने के बाद बाबा व उसके चेले उसे जान से मारने की धमकी देते थे। किसी को कुछ भी बताने पर उसे गायब करने की धमकी दी जाती थी। बुधवार को जब उसने मामले की शिकायत दर्ज करा दी तो अब उसकी जान को खतरा और बढ़ गया है। पीड़िता का कहना है कि राजस्थान से दिल्ली आते-जाते समय उसके साथ कुछ भी हो सकता है। पीड़िता ने पुलिस से सुरक्षा देने की मांग की है।

यह लेख/विचार/रपट आपको कैसा लगा? नियमित संचालन के लिए लिंक क्लिक कर आर्थिक सहयोग करें: 
                                             डोनेशन   
स्त्रीकाल का संचालन 'द मार्जिनलाइज्ड' , ऐन इंस्टिट्यूट  फॉर  अल्टरनेटिव  रिसर्च  एंड  मीडिया  स्टडीज  के द्वारा होता  है .  इसके प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें : अमेजन पर   सभी  किताबें  उपलब्ध हैं. फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें उपलब्ध हैं.संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com

Blogger द्वारा संचालित.