यौन उत्पीड़क प्रोफेसरों की जारी सूची पर छिड़ा विवाद: जेएनयू, डीयू सहित 33 बड़े संस्थानों के 61 प्रोफेसर सूची में


अमेरिका स्थित एक स्त्रीवादी भारतीय वकील राया  सरकार ने उन शिक्षाविदों के नामों की सूची  अपने  फेसबुक पेज पर डाली है, जिनपर उनकी विद्यार्थियों ने यौन उत्पीडन का आरोप लगाया है. यह सूची राया सरकार ने सोशल मीडिया में #MeToo कैम्पेन के बाद जारी की है. राया ने यह सूची पीड़िताओं द्वारा उन्हें बताये गये नामों के आधार पर बनायी है, पीड़िताओं ने उन्हें अपने उत्पीड़क के नाम मेसेज किये थे, विवरण के साथ .



हालांकि इस सूची के जारी होने के बाद कई भारतीय स्त्रीवादियों ने लोगों के नामों की सूची जारी करने की निंदा करते हुए काफिला पर एक वक्तव्य जारी किया. आयशा किदवई, जानकी नायर, कविता कृष्णनन, नंदिनी राव, निवेदिता मेनन ,वृंदा ग्रोवर सहित कई अकादमिक जगत से जुड़ी और उसके बाहर की अन्य स्त्रीअधिकार की कार्यकर्ताओं ने इस सूची की निंदा करते हुए कहा कि हमने जो एक लम्बे दौर से  कार्य स्थलों पर  यौन उत्पीडन  की शिकायत के लिए एक  व्यवस्था बनायी है, उसे ऐसे प्रयासों से नुकसान होगा. यह न्याय के 'प्राकृतिक सिद्धांत' के भी खिलाफ जाता है.

हालांकि इस निंदा के विपक्ष में भी लोगों ने तर्क दिये हैं कि 'यह एक कुलीन बचाव और एकता है.' उनका सवाल है कि यदि ऐसे ही नाम यदि 'उबर ड्राइवर या अन्य गैरकुलीन पेशों के आते तो क्या निंदा जारी करने वाली स्त्रीवादियों के तर्क यही होते.

वे प्रोफेसर जिनके नाम राया सरकार ने जारी किये
1). दीपेश चक्रवर्ती, जादवपुर , 2)  कनक सरकार, जादवपुर , 3) प्रसन्ना चक्रवर्ती, दिल्ली विश्वविद्यालय, अंग्रेजी विभाग, 4) पार्थ चटर्जी, राजनीतिक सिद्धांतवादी और इतिहासकार, 5) नेड बर्टज़, हवाई विश्वविद्यालय / अम्बेडकर विश्वविद्यालय, दिल्ली, इतिहास विभाग, 6) मानस रे, सीएसएसएस कलकत्ता,7) प्रदोष  भट्टाचार्य, जादवपुर विश्वविद्यालय, जूडई, 8) बिद्युत  चक्रवर्ती, डीयू राजनीतिक विज्ञान विभाग, 9) राजर्षि दासगुप्ता, सीपीएस, जेएनयू, 10) कौशिक रॉय, जादवपुर विश्वविद्यालय, जुदेपिस, 11) सुमित कुमार बरुआ, जादवपुर विश्वविद्यालय, जेयूसीएल, 12) निलानंजन दत्ता, फिल्म और टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई) एडिटिंग विभाग, 13) संदीप चटर्जी, निर्देशन विभाग एफटीआईआई, 14) मितुल बरुआ, अशोक विश्वविद्यालय, 15) आर.सी. नटराजन, पूर्व निदेशक, ग्रामीण विकास आनंद संस्थान (आईआईआरएएमए), गुजरात, 16) अली अहमद इद्रसी, दिल्ली यूनिरेविटी, 17) पार्थ मुखर्जी, सेंट जेवियर्स कॉलेज, कोलकाता, 18) श्यामल कर्मकार, एचओडी ऑफ एडिटिंग , सत्यजीत रे फिल्म और टेलीविज़न इंस्टीट्यूट (एसआरएफटीआई), 1 9) श्यामल सेनगुप्ता, पूर्व एचओडी उत्पादन, एसआरएफटीआई, 20) शुभराध चौधरी, एसआरएफटीआई, डायरेक्शन डिप्टी
21) अर्ल नंबी, शिक्षक, परमाणु ऊर्जा उच्च माध्यमिक केंद्रीय विद्यालय, कुडनकुलम, टीएन। (तमिल कवि और लेखक), 22) सोम बोस, टेरी विश्वविद्यालय, नई दिल्ली, अर्थशास्त्र विभाग, 23) अभिजीत गुप्ता, जादवपुर विश्वविद्यालय, 24) मृदुल बोस, जादवपुर विश्वविद्यालय, 25) अमित अब्राहम, प्रसिद्ध मनोवैज्ञानिक, स्कॉटलैंड चर्च कॉलेज के पूर्व प्रिंसिपल कोलकाता।, 26) गोपाल बालकृष्णन, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के सांताक्रूज और न्यू बाएं रिव्यू, 27) अंकुर बरुआ, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय, 28) अनुप धर, अम्बेडकर विश्वविद्यालय दिल्ली (एयूडी)
2 9) अशोक नागपाल, एयूडी, 30) विक्र मित्रा, एयूडी, 31) बेंजामिन  जचिर्या, प्रेसीडेंसी यूनिवर्सिटी, कलकत्ता / ट्राएर विश्वविद्यालय, जर्मनी, 32) विश्वजीत चटर्जी, जादवपुर विश्वविद्यालय, अर्थशास्त्र विभाग, 33) रवीन्द्र सेन, जादवपुर विश्वविद्यालय, अंतर्राष्ट्रीय संबंध विभाग, 34) भास्कर मोइत्रा, जादवपुर विश्वविद्यालय, अर्थशास्त्र विभाग
35) सागर नाइक, डी वाई पाटिल यूनिवर्सिटी, आतिथ्य और पर्यटन [भावनात्मक रूप से और शारीरिक रूप से लड़ रहे पुरुष छात्र, 36) खालिद वासिम, तिस तुलजापुर, 37) स्वर्गीय एमएसएस पांडियन, 38) सुरिंदर एस जोधका, जेएनयू, 39) कानव गुप्ता, दिल्ली विश्वविद्यालय, 40) परशुरा सिंह, यूसी रिवरसाइड, 41) लॉरेंस लिआंग, एयूडी, 42) अर्घ्य बसु, पूर्व संकाय एफटीआईआई, दस्तावेजी फिल्म निर्माता, 43) जयंत धूपकर, ईएफएलयू, हैदराबाद, 44) बी एन रे, पूर्व उपराष्ट्रपति, रामजास कॉलेज, डीयू, 45) जॉयदेव चोटापाध्याय, आईएसआई कोलकाता, 46) बिलाल आबिद, निफ्ट दिल्ली, 47) गौतम चक्रवर्ती, दिल्ली विश्वविद्यालय, अंग्रेजी विभाग. 48) पप्पू वेणुगोपाल राव, संगीत अकादमी मद्रास. 49) ईश मिश्रा, हिंदू कॉलेज, डीयू, 50) कौशिक बसु, एनएलएसआईयू बैंगलोर, 51) देवमालिया चटर्जी, ज्यू प्रोडक्शन इंजीनियरिंग विभाग, 52) सरोज गिरि, दिल्ली विश्वविद्यालय, 53) दारा एस अमर, सेंट जॉन्स मेडिकल कॉलेज बैंगलोर, 54) पिता वर्गीज, मसीह विश्वविद्यालय
55) मिहिर भट्टाचार्य, फिल्म विभाग के संस्थापक और पूर्व एचओडी, जादवपुर विश्वविद्यालय [शिकायतकर्ता, एक पूर्व संकाय ने सार्वजनिक रूप से इस बारे में बात की, लेकिन मुझे धमकाने के बाद अपना नाम बंद करना चाहता था), 56) शिभाशिश बोस, ज्यू, आर्किटेक्चर विभाग, 57) अहमर अनवर, श्री वेंकटेश्वर कॉलेज, डीयू, 58) देबायुध चटर्जी, जूड, डीयू रिसर्च विद्वान, 59) शॉनवाज़ अली रेहान, ऑक्सफोर्ड के छात्र और प्रोफेसर नहीं बल्कि यौन उत्पीड़न, 60) एशले टेलिस, 61) प्रवीण, दुसाने एमईएस अबासाहेब गरवारे कॉलेज, पुणे


सोशल मीडिया में जारी यहां उन कॉलेजों की सूची दी गई है जहां कथित यौन उत्पीड़कों ने काम किया या काम करना जारी रखा है

1) जादवपुर विश्वविद्यालय, कोलकाता
2) दिल्ली विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
3) हवाई विश्वविद्यालय, होनोलूलू, हवाई (यूएस)
4) अम्बेडकर विश्वविद्यालय, दिल्ली (एयूडी)
5) सेंटर फॉर स्टडीज इन सोशल साइंसेज (सीएसएसएस), कोलकाता
6) जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू), नई दिल्ली)
7) फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट (एफटीआईआई), पुणे
8) अशोक विश्वविद्यालय, सोनिपत, हरियाणा
9) ग्रामीण प्रबंधन आनंद संस्थान (आईआईआरएमए), गुजरात
10) सेंट जेवियर्स कॉलेज, कोलकाता
11) सत्यजीत रे फिल्म और टेलीविजन संस्थान (एसआरएफटीआई), कोलकाता
12) परमाणु ऊर्जा उच्च माध्यमिक केंद्रीय विद्यालय, कुडनकुलम, तमिलनाडु
13) टेरी विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
14) स्कॉटिश चर्च कॉलेज, कोलकाता
15) कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, सांता क्रूज़
16) यूनिवर्सिटी ऑफ कैम्ब्रिज
17) प्रेसीडेंसी यूनिवर्सिटी, कलकत्ता
18) यूनिवर्सिटी ऑफ ट्राएर, जर्मनी
19) डी वाई पाटिल विश्वविद्यालय, मुंबई
20) टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेस, ऑफ-कैंपस, तुलजापुर, उस्मानाबाद जिला, महाराष्ट्र
21) मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट स्टडीज, चेन्नई
22) कैलिफ़ोर्निया विश्वविद्यालय, रिवरसाइड, कैलिफ़ोर्निया, संयुक्त राज्य अमेरिका
23) अंग्रेजी और विदेशी भाषाएं विश्वविद्यालय (ईएफएलयू), हैदराबाद
24) रामजास कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय
25) भारतीय सांख्यिकी संस्थान (आईएसआई), कोलकाता


स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह 'द मार्जिनलाइज्ड' नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. 'द मार्जिनलाइज्ड' मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का कार्य करती है.
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
लिंक  पर  जाकर सहयोग करें    :  डोनेशन/ सदस्यता 

'द मार्जिनलाइज्ड' के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें :  फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें  उपलब्ध हैं. ई बुक : दलित स्त्रीवाद 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com
Blogger द्वारा संचालित.