अपने यौन शोषण की घटनायें बताने का हैश टैग #MeToo


ट्वीटर पर पाने जीवन में कभी न कभी हुए यौन शोषण की घटना का विवरण देने का सिलसिला #MeToo हैश टैग के साथ ट्रेंड कर रहा है. 30,000 से अधिक महिलाएं, जिनमें अभिनेता एलिसा मिलानो और अन्ना पाकीन और एमपी स्टैला क्रैसी भी शामिल हैं, अभियान में शामिल हुई भारत की चर्चित हस्तियों ने भी अपनी आपबीती बतानी शुरू की है. यह ट्रेंड फेसबुक पर भी आकार ले रहा है.


हार्वे वेन्स्टीन के आरोपों के प्रकाश में, Me Too का इस्तेमाल यह दिखाने के लिए किया जा रहा है कि यौन उत्पीड़न और हमले कैसे व्यापक हैं.

रविवार को अभिनेत्री एलिसा मिलानो ने एक टिप्पणी ट्वीट की थी कि "एक मित्र ने सुझाव दिया है: यदि सभी महिलायें, जो यौन उत्पीड़न या हमले की शिकार  वे " Me Too " शीर्षक से लिखें तो  हम लोगों को समस्या की भयावहता से अवगत करा सकते हैं."



उन्होंने लिखा "अगर आपको यौन उत्पीड़न का शिकार होना पडा है, तो प्रत्युत्तर में ' Me Too’ लिखें. इस कैम्पेन में शामिल होते हुए प्रसिद्ध कॉमेडियन मल्लिका दुआ ने बचपन में अपने साथ हुई यौन शोषण की घटना के बारे में लिखा है. भारत से भे एप्रमुख हस्तियाँ लिख रही हैं वहीं फेसबुक पर भी यह ट्रेंड करने लगा है.

टच ही तो किया है न और कुछ तो नहीं किया न 

अब प्रसिद्ध कॉमेडियन मल्लिका दुआ ने बचपन में अपने साथ हुई यौन शोषण की घटना का खुलासा किया है.




कॉमेडियन मल्लिका दुआ ने अपने फेसबुक और सोशल मीडिया पर एक पोस्‍ट के तहत बताया कि वह 7 साल की उम्र में उनके साथ भी यौन शोषण की घटना हुई है. मल्लिका ने अपने पोस्‍ट में लिखा, ' मैं भी... अपनी खुद की कार में. मेरी मां कार चला रही थीं जबकि वह हमारे साथ पीछे बैठा था और पूरे समय उसका हाथ मेरी स्‍कर्ट में था. मैं सिर्फ 7 साल की थी और मेरी बहन 11 साल की. उसका हाथ मेरी स्‍कर्ट के अंदर था और मेरी सिस्‍टर की पीठ पर था. मेरे पिता ने, जो उस समय दूसरी कार में थे, उसका मुंह तोड़ दिया क्‍योंकि उसी रात उन्‍होंने उसे रंगे हाथों पकड़ लिया था.'


स्त्रीकाल  प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह 'द मार्जिनलाइज्ड' नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. 'द मार्जिनलाइज्ड' मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का कार्य करती है.
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
लिंक  पर  जाकर सहयोग करें :  डोनेशन/ सदस्यता 

'द मार्जिनलाइज्ड' के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें :  फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें उपलब्ध हैं. ई बुक : दलित स्त्रीवाद 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com

Blogger द्वारा संचालित.