अमृता सिन्हा की कविताएँ

अमृता सिन्हा


स्वतंत्र लेखन, विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित संपर्क: a.sinhamaxnewyorklife@ymail.com
        
        यक्ष-प्रश्न
   
         हाँ, याद है उसे
         माँ की दी हुई नसीहतें ।
         कूदती-फाँदती , दरख़्तों की दरारों
         से झाँकती, गिलहरियों सी,
         कभी रंग - बिरंगी तितलियों सी
          उड़ जाती हैं बेटियाँ ।
         बात- बात में टोकती , आँखें तरेरती
         माँ की हिदायतों के बीच
         बचपन में ही बड़ी , बहुत बड़ी
         होती जाती हैं , बेटियाँ ।
         भूल ही नहीं पाती वो ,बचपन
          की हँसी , बेबाक़ , बेसाख़्ता , बेमानी
          रोक दिया था माँ ने तब, बतलाया था उसे
          यूँ बेसाख़्ता हँसा नहीं करती हैं ,बेटियाँ ।
           मालूम है , सीखना होगा उसे
           हर सलीक़ा ज़िन्दगी का
            रखना होगा ख़्याल हर सलवटों का
            ढकना होगा दुपट्टे से बदन अपना
           लगाना होगा चेहरे पर
           दही बेसन का मिश्रण
           बचना होगा धूप के तांबई रंग से
           सहेजना होगा लंबे बालों को
           क्योंकि पराया धन होती हैं , बेटियाँ ।
          जुगनू से टिमटिमाते सपनों  को
           भरना होगा काजल की डिबिया में ,
           लपेटना होगा , चुपचाप ,पनीली आँखों से,
           छितरे बचपन के ऊनी गोले को ।
            एक देहरी अनजान सी,संकरी है गली जिसकी,
           बेग़ाना है समूचा शहर, आँखों से झरता समंदर
           विस्मृत सी , सोचती है वह अक्सर
            कहीं अम्माँ  भूल तो नहीं गईं, भेजना
           उसकी हँसी की गठरी ,छोड़ आई थी जिसे वहीं पर,
           इसी ऊहापोह में तय करती जाती हैं ,
           करछी और कढ़ाही के बीच का सफ़र , बेटियाँ ।
     

         अस्तित्व
     
         यायावर मन
         भटकता, पहुँचा है
        सुदूर , संभावनाओं के शहर में
        बादलों से घिरा
        ऊँचाईयों में तिरता, फिसलता सा
        वर्षा की बूँदों को चीरता
        उतर आया है मेरा इन्द्रधनुष
        काली सर्पीली सड़कों पर
        दौड़ता, भागता, बेतहाशा
        नदी के बीचों- बीच सुनहरे
       टापू को एकटक निहारता ।
        करवटें लेती लहरों से खेलता
        ऊँचे - ऊँचे दरख़्तों में समाता
         जाने कहाँ-कहाँ विचर रहा
         मेरा इन्द्रधनुष ।
         तभी नन्हा सा छौना, बेटा मेरा
         काटता है चिकोटी , बाँहों में मेरे
         अनायास ही टूटती है तंद्रा मेरी
         पूछता है मुझसे
          माँ क्या बना  ?
          जागती हूँ मैं स्वप्न से
          कटे वृक्ष की तरह
          और परोस देती हूँ, थाली में
           हरे-भरे मायने और रंग- बिरंगे शब्द ।

       
स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह 'द मार्जिनलाइज्ड' नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. 'द मार्जिनलाइज्ड' मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का कार्य करती है.
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
लिंक  पर  जाकर सहयोग करें :  डोनेशन/ सदस्यता 

'द मार्जिनलाइज्ड' के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें :  फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें उपलब्ध हैं. ई बुक : दलित स्त्रीवाद 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com     
Blogger द्वारा संचालित.