दूसरी महिला रक्षामंत्री और पहली पूर्णकालिक महिला रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण:प्रतिनिधित्व का अपना महत्व



वाणिज्य मंत्रालय  में स्वतंत्र प्रभार मंत्री निर्मला सीतारमण को देश का नया रक्षामंत्री बनाया गया है. इंदिरा गांधी के बाद सीतारमण देश की महिला रक्षामंत्री बनी हैं। इंदिरा जी ने प्रधानमंत्री रहते हुए रक्षा मंत्रालय को भी सम्भाला था। इस तरह  वे पहली पूर्णकालिक महिला रक्षा मंत्री हैं।


जेएनयू की छात्रा रहीं निर्मला सीतारमण ने वाणिज्य मंत्रालय में रहते हुुए कई अच्छे  काम किए, कहा जा रहा है कि प्रधानमंत्री ने उन्हें इसका पुरस्कार दिया है। हालांकि वे अपनी नियुक्ति को दैवीय कृपा भी बता रही हैं।
रक्षा विशेषज्ञ मेजर जनरल पीके सहगल ने तो कहा कि महिलाओं को आप कम करके मत आंकिए.

रक्षा मंत्रालय देश के चार शीर्ष मंत्रालयों में से एक है और यहां चुनौतियां उतनी ही कठिन भी हैं. ख़ुद को साबित करने के लिए निर्मला सीतारमण के पास ज़्यादा समय नहीं है.

निर्मला सीतारमन 2003 से 2005 तक राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्या रह चुकी हैं। 2006 में उन्होंने भाजपा ज्वाइन किया।


निर्मला सीतारमण ने 1980 में सीतालक्ष्मी रामास्वामि कॉलेज, तिरुचिरापल्ली, तमिलनाडु से ग्रेजुएशन किया है. उसके बाद जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से एमफ़िल किया है.

भले ही वे अपनी नियुक्ति का श्रेय ईश्वर को दे रही हैं। लेकिन जनता की अपेक्षाएं खुद उनसे होंगीं। रक्षा विशेषज्ञ मेजर जनरल पीके सहगल ने तो कहा कि महिलाओं को आप कम करके मत आंकिए. मुझे तो लगता है कि जो काम पिछले कई रक्षा मंत्री नही कर पाए वो ये कर पाएंगी .एक महिला रक्षा मंत्री की नियुक्ति सेना में महिलाओं की भूमिका को बढ़ाने का भी रास्ता खोलती है. फिलहाल क़रीब साढ़े चौदह लाख सैनिकों वाली भारतीय सेना के तीनों अंगों में कुल क़रीब चार हजार ही महिलाएं हैं. उसमें भी कॉम्बैट रोल अभी सिर्फ़ एयरफोर्स में ही महिलाओं को दिया गया है. निर्मला सीतारमण के आने के बाद इसमें विस्तार की उम्मीद है. तभी तो निर्मला ने कहा कि मंत्रालय में आने के बाद वो इस मामले को खुले तौर पर देखेगी फिर फैसला लेगीं .

निर्मला सीतारमण ने  जेएनयू में एमफिल की पढा़ई के दौरान  सहपाठी पराकला प्रभाकर से प्रेम विवाह किया है। विवाह के बाद वे लन्दन चली गई थीं।1991 में बेटी के जन्म के बाद वह हैदराबाद में बस गईं निर्मला सीतारमण मुदरई की रहने वाली है और ज्यादातर अंग्रेजी का ही इस्तेमाल करती हैं।


सीतारमण की छवि विवाद रहित और साफ सुथरी रही है

अभी तक देश में रक्षा मंत्रालय हमेशा पुरुषों को ही दिया जाता रहा है. हालांकि दुनिया के कई देश हैं जहां पर महिलाएं रक्षा मंत्रालय को संभाल रही हैं

किन देशों में हैं अभी महिला रक्षामंत्री

बांग्लादेश : शेख हसीना इस समय रक्षामंत्री हैं. वह देश की प्रधानमंत्री भी हैं इस समय.

दक्षिण अफ्रीका : एनएम नकुला इस समय यहां की रक्षामंत्री हैं.

नीदरलैंड : जेएस प्लैसचार्ट इस देश की रक्षामंत्रीं हैं. 2012 में उनको यह जिम्मेदारी दी गई थी.

केन्या : आर. ओमामो केन्या की रक्षामंत्री हैं.

अल्बानिया : एम कोढेली अल्बानिया देश की रक्षामंत्री हैं. वह तीन सालों से इस देश की रक्षामंत्री हैं.

नार्वे : नार्वे की रक्षामंत्री एनएमई सोर्रडिया हैं. सोर्रडिया तीन सालो से यहां की रक्षामंत्री हैं.

जर्मनी : यूवी लेयन जर्मनी की रक्षामंत्री हैं. वह यहां पर 3 सालों से रक्षा मंत्रालय संभाल रही हैं.

इटली : रॉबर्टा पिंटो इटली की रक्षामंत्री हैं जो कि 3 सालों से इस मंत्रालय को संभाल रही हैं.

स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह 'द मार्जिनलाइज्ड' नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. 'द मार्जिनलाइज्ड' मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का कार्य करती है.
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
लिंक  पर  जाकर सहयोग करें :  डोनेशन/ सदस्यता 

'द मार्जिनलाइज्ड' के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें :  फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें उपलब्ध हैं. ई बुक : दलित स्त्रीवाद 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com
Blogger द्वारा संचालित.