क्यों कर रही हैं लडकियां पीएम मोदी का विरोध (!)


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बनारस दौरे के पूर्व बनारस के प्रशासनिक हलके में हड़कम्प मच गया जब बीएचयू की छात्राओं ने बीएचयू गेट के सामने छेड़खानी के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन किया. यहां तक कि विरोध में एक छात्रा ने अपना सिर तक मुंडवा लिया.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज से वाराणसी के दो दिन के दौरे पर होंगे और उनके पहुंचने से पहले यह विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया. पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में पढ़ने वाली छात्राएं ही खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहीं हैं.

जिस तरह से इन छात्राओं ने प्रदर्शन किया उससे ज़िला प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए  और धरना स्थल पर भारी फोर्स को तैनात कर दिया गया. इन छात्राओं का आरोप है इनके साथ कैंपस में लगातार छेड़खानी होती है. लेकिन कोई कार्रवाई नहीं होती. इन छात्राओं का आरोप है कि छेड़खानी  प्राक्टोरियल बोर्ड के लोग भी शामिल हैं जिसकी वजह से कोई कार्रवाई नहीं होती.



छात्राओं ने बताया कि उनके साथ हॉस्टल के गेट या क्लास में हर जगह आए दिन छेड़खानी होती है. गुरुवार शाम को भी त्रिवेणी हॉस्टल के बाहर कुछ छात्राओं के साथ छेड़खानी हुई तो छात्राओं ने चीफ प्रॉक्टर प्रो.ओएन सिंह को फोन पर बताया तो कार्रवाई के बजाय उल्टा छात्राओं को ही वे भला बुरा कहने लगे और कहा कि 6 बजे के बाद हॉस्टल के बाहर क्यों घूम रही थीं. फिलहाल छात्राएं कार्रवाई की मांग को लेकर धरने पर बैठी गयीं.

सोनिया गांधी का मास्टर स्ट्रोक: महिला आरक्षण के लिए लिखा पीएम मोदी को खत

छात्राओं के अनुसार भारत कला भवन के पास छात्रा के साथ बाइक सवारों ने की छेड़खानी की. छात्रा के चिल्लाने के बाद भी चंद कदम की दूरी पर मौजूद बीएचयू के सुरक्षाकर्मियों ने कोई मदद नहीं की. जिससे घबराई छात्रा हॉस्टल वापस आई. उसने छात्राओं को पूरी बात बताई. जिसके बाद छात्राएं आक्रोशित हो गईं. छात्राएं हॉस्टल से निकलकर नारेबाजी करती हुई बीएचयू की ओर बढ़ी. छात्राओं के आक्रोशित झुंड को आता देखकर बीएचयू का गेट बंद कर दिया. छात्राओं में इतना गुस्सा था कि बैलर ऑफ फाइन आर्ट्स की एक छात्रा ने उसका सिर मुंडा लिया.
क्या भारत की बेटी है सिंगापुर की पहली महिला राष्ट्रपति (!)

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के दो दिनों के दौरे पर रहेंगे. इस दौरान वह कई इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स का उद्घाटन करेंगे. साथ ही पीएम कई सभाएं भी करेंगे. प्रधानमंत्री जुलाहों और हथकरघा उद्योग में काम करने वाले कर्मचारियों के लिए ट्रेड सेंटर के दूसरे चरण की शुरुआत करेंगे. साथ ही प्रधानमंत्री वाराणसी से वडोदरा जाने वाली तीसरी महामाना एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाएंगे.

स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह 'द मार्जिनलाइज्ड' नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. 'द मार्जिनलाइज्ड' मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का कार्य करती है.
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
लिंक  पर  जाकर सहयोग करें    :  डोनेशन/ सदस्यता 

'द मार्जिनलाइज्ड' के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें :  फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें  उपलब्ध हैं. ई बुक : दलित स्त्रीवाद 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com
Blogger द्वारा संचालित.