विज्ञान पर हावी जातिवाद: ब्राहमण न होने पर नौकरानी के खिलाफ ब्राहमण वैज्ञानिक ने कराया मुकदमा


जातिवाद हमारे खून में किस तरह घुस गया है इसका ताजा उदाहरण है एक बड़े वैज्ञानिक की शिकायत। मेघा खोले भारतीय मौसम विभाग में बड़े पद पर हैं। पुलिस से की गई शिकायत में मेघा ने कहा है कि उसकी नौकरानी ने काम मांगने के दौरान अपनी जाति की पहचान छुपाई।

इससे उसकी भावना को ठेस पहुंची है।  पुणे स्थित आई.एम.डी. में डिप्टी डायरैक्टर (वैदर फॉरकासिंटिंग) मेघा ने पुलिस थाने में दर्ज करवाई एफ.आई.आर. में कहा कि काम मांगते वक्त उसकी नौकरानी ने झूठ बोला कि वह ब्राह्मण है।


यह झूठ बोलकर करीब एक साल तक वह उसके घर में काम करती रही।  गणेशोत्सव और श्राद्ध के दौरान घर में खाना बनाने के लिए मेघा ब्राह्मण नौकरानी चाहती थी। एक औरत ने उसे निर्मला से यह कर मिलवाया कि वह ब्राह्मण है। मेघा ने इसके लिए निर्मला का वैरीफिकेशन भी करवाया। इसके बाद निर्मला कई धार्मिक कार्यक्रम में मेघा के घर काम करने आई। करीब एक साल बाद मेघा की पुजारी ने उसे बताया कि निर्मला ब्राह्मण नहीं है।

साभार:नवोदय टाइम्स

स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह 'द मार्जिनलाइज्ड' नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. 'द मार्जिनलाइज्ड' मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का कार्य करती है.
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
लिंक  पर  जाकर सहयोग करें :  डोनेशन/ सदस्यता 

'द मार्जिनलाइज्ड' के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें :  फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें उपलब्ध हैं. ई बुक : दलित स्त्रीवाद 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com
Blogger द्वारा संचालित.