योनि के ऊपरी हिस्से को काटने की प्रथा (सुन्नत) के खिलाफ बोहरा महिला ने पीएम को लिखा खत



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी,

स्वतंत्रता दिवस पर आपने मुस्लिम महिलाओं के दुखों और कष्टों पर बात की थी. ट्रिपल तलाक को आपने महिला विरोधी कहा था, सुनकर बहुत अच्छा लगा था.

हम औरतों को तब तक पूरी आज़ादी नहीं मिल सकती जब तक हमारा बलात्कार होता रहेगा, हमें संस्कृति, परंपरा और धर्म के नाम पर प्रताड़ित किया जाता रहेगा. हमारा संविधान सभी को समान अधिकार देने की बात करता है, पर असल में जब भी किसी बच्ची को गर्भ में मारा जाता है, जब भी किसी बहु को दहेज के नाम पर जलाया जाता है, जब भी किसी बच्ची की जबरन शादी करवा दी जाती है, जब भी किसी लड़की के साथ छेड़खानी होती है या उसके साथ बलात्कार किया जाता है, हर बार इस समानता के अधिकार का हनन किया जाता है.


ट्रिपल तलाक अन्याय है, पर इस देश की औरतों की सिर्फ़ यही एक समस्या नहीं है. मैं आपको औरतों का सुन्नत/ खतना (Female Genital Mutilation ) के बारे में बताना चाहती हूं, जो छोटी बच्चियों के साथ किया जाता है. जो बच्चियां अपने शरीर से जुड़े निर्णय नहीं ले सकती, उन्हें इस अमानवीय प्रथा का शिकार बनना पड़ता है. इन बच्चियों के शरीर को जो नुकसान पहुंचता है, उसे किसी भी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता. इस प्रथा के खिलाफ़ पूरी दुनिया में आवाज़ उठाई जा रही है.

मैं इस ख़त के द्वारा आपका ध्यान इस भयानक प्रथा की तरफ़ खींचना चाहती हूं. बोहरा समुदाय में सालों से 'ख़तना' या'ख़फ्ज़' प्रथा का पालन किया जा रहा है. बोहरा, शिया मुस्लिम हैं, जिनकी संख्या लगभग 2 मिलियन है और ये महाराष्ट्र,गुजरात, मध्य प्रदेश और राजस्थान में बसे हैं.

मैं बताती हूं कि मेरे समुदाय में आज भी छोटी बच्चियों के साथ क्या होता है. जैसे ही कोई बच्ची 7 साल की हो जाती है,उसकी मां या दादी मां उसे एक दाई या लोकल डॉक्टर के पास ले जाती हैं. बच्ची को ये नहीं बताया जाता कि उसे कहां ले जाया जा रहा है या उसके साथ क्या होने वाला है. दाई या आया या वो डॉक्टर उसके योनि (Clitoris) को काट देते हैं. इस प्रथा का दर्द ताउम्र उस बच्ची के साथ रह जाता है.


इस प्रथा का एकमात्र उद्देश्य है, बच्ची या महिला की यौन इच्छा को दबाना.

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन  के अनुसार, 'सुन्नत  महिलाओं और लड़कियों के मानवाधिकार का हनन है. महिलाओं के साथ होने वाले भेदभाव का ये सबसे बड़ा उदाहरण है. बच्चों के साथ ये अकसर होता है और ये उनके अधिकारों का भी हनन है. इस प्रथा से व्यक्ति के शारीरिक, मानसिक स्वास्थ्य पर भी असर पड़ता है.'
सैंकड़ों सालों से इस प्रथा का शांति से पालन किया जा रहा है और बोहरा समुदाय के बाहर बहुत कम लोग ही इस प्रथा के बारे में जानते होंगे. 2015 में बोहरा समुदाय की कुछ महिलाओं ने एकजुट होकर #WeSpeakOut On FGM नाम से एक कैंपेन शुरू किया और यहां हमने आपस में अपनी दुख और कहानियां एक-दूसरे से कही. हमने ख़तना के खिलाफ़ एक जंग का ऐलान करने की ठानी.

हमने अपने पादरी, सैदना मुफ़्फदल को इस प्रथा को रोकने के लिए कई ख़त लिखे, पर हमारी बात किसी ने नहीं सुनी. ये प्रथा न सिर्फ़ आज भी चल रही है, बल्कि पादरी साहब ने एक पब्लिक प्रेस स्टेटमेंट में ये घोषणा भी कर दी कि 1400 साल से जो प्रथा चल रही है उसे किसी भी हालत में नहीं बदला जाएगा. बच्चों के मानवाधिकार हनन की तरफ़ किसी ने भी ध्यान नहीं दिया.

18 दिसंबर. 2014 में यूनाईटेड नेशन ने एक प्रस्ताव पारित किया जिसके तहत पूरी दुनिया में सुन्नत को बैन करने की बात कही गई. इसे ख़त्म करना एक सस्टेनेबल डेवेलपमेंट लक्ष्य भी है.

प्रधानमंत्री जी, एक बार पहले भी आपने कहा था कि संविधान के अनुसार, मुस्लिम औरतों और उनके अधिकारों की रक्षा करना अनिवार्य है. मुझे आपकी बातें सुनकर सुकून मिला कि मुस्लिम महिलाओं की हक़ की रक्षा करना भी सरकार का कर्तव्य है.


आपने ये भा कहा था कि, 'लोकतंत्र में बातचीत ज़रूरी है.' इसलिये मेरी आपसे दरख्वास्त है कि मेरी और मेरी बहनों की, जो सुन्नत की शिकार हुईं हैं कि बात सुनी जाए.

दिसंबर 2015 में हमने 'WeSpeakOut On FGM' नाम से Change.org पर एक कैम्पेन की शुरुआत की थी. इस प्रथा को बंद करने के पक्ष में हमें 90000 से ज़्यादा दस्तख़त मिल गए हैं. लेकिन अब तक सरकार की तरफ़ से हमें कोई जवाब नहीं मिला है.

प्रधानमंत्री जी, हम बोहरा समुदाय की महिलायें अपने हक़ के लिए लड़ रही हैं. कुरान में भी सुन्नत की बात नहीं कही गई है. हमारे देश में सिर्फ़ बोहरा समुदाय में और केरल के कुछ समुदायों में ही इस प्रथा का पालन किया जाता है. हम 21वीं सदी में जी रहे हैं और कुछ चीज़ें बदलनी ही चाहिए. मैं सरकार से ये दरख़्वास्त करती हूं कि जल्द से जल्द इस कुप्रथा को ख़त्म करने पर काम शुरू किया जाए.
इस प्रथा को बैन करके बोहरा बेटियों को बचाना बहुत ज़रूरी है.

मासूमा रानाल्वी
(अनुवाद संचिता, गजब पोस्ट से साभार)

स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह 'द मार्जिनलाइज्ड' नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. 'द मार्जिनलाइज्ड' मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का कार्य करती है.
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
लिंक  पर  जाकर सहयोग करें :  डोनेशन/ सदस्यता 

'द मार्जिनलाइज्ड' के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें :  फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें उपलब्ध हैं. ई बुक : दलित स्त्रीवाद 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com
Blogger द्वारा संचालित.