रात को सड़कों पर उतरी लडकियां : मेरी रात मेरी सड़क


वे पब्लिक स्पेस को क्लेम करने उतरीं थीं, वे उतरी थीं पुरुष प्रायोजित उन अंधेरों से लड़ने जो सड़क पर देर रात औरतों को डराने के लिए आहूत की जाती हैं. वे वर्णिका के पक्ष में उतरीं, निर्भया के लिए उतरीं. वे उनसब के लिए रात को सडकों पर उतरीं, जिन्हें मर्दवादी सत्ता लील ले गई इस अपराध के लिए कि वे शाम के बाद घर से निकलती ही क्यों हैं? तस्वीरों में #मेरीरातमेरीसडक 

12 अगस्त, 2017 की रात  देश भर में लडकियां अपने-अपने शहरों की सड़कों पर उतरीं.... 























स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह 'द मार्जिनलाइज्ड' नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. 'द मार्जिनलाइज्ड' मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का कार्य करती है.
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
लिंक  पर  जाकर सहयोग करें    :  डोनेशन/ सदस्यता 

'द मार्जिनलाइज्ड' के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें :  फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें  उपलब्ध हैं. ई बुक : दलित स्त्रीवाद 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com
Blogger द्वारा संचालित.