हृदयहीन शासकों, सुनो बच्चों की चीख और माओं की आहें !


गोरखपुर ज़िले के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की सप्लाई बंद हो जाने से लगभग 60 बच्चों के मरने की ख़बर है. हालांकि योगी सरकार सरकार इन मौतों को अलग-अलग कारणों से बाताती है तो कथन की क्रूरता की हदें पार करते हुए इसे अगस्त की नियमित और सालाना  मौत भी बता रही है. गोरखपुर से आई तस्वीरें हृदय विदारक हैं. फटी-पथराई आँखों के साथ मृत-अर्ध मृत बच्चों की लाश लिये माँ की तस्वीरें. ऑक्सीजन की कमी के बावजूद डा कफील अहमद ने तत्परता से कुछ बच्चों की जानें बचाई अन्यथा मारे गए बच्चों की संख्या और भी अधिक होती. इन तस्वीरों का यह कोलाज ताकि सनद रहे. 







डा. कफील अहमद एक माँ के बच्चे को बचाने की कोशिश करते हुए 








गाय के बच्चों को दुलारते सीएम योगी और उनके राज्य और उनके संसदीय क्षेत्र में बच्चे की जान बचाते डा. कफील 








स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह 'द मार्जिनलाइज्ड' नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. 'द मार्जिनलाइज्ड' मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का कार्य करती है.
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
लिंक  पर  जाकर सहयोग करें    :  डोनेशन/ सदस्यता 

'द मार्जिनलाइज्ड' के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें :  फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें  उपलब्ध हैं. ई बुक : दलित स्त्रीवाद 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com
Blogger द्वारा संचालित.