दलित महिलाओं को मंदिर प्रवेश से रोका: महिलाओं ने की शिकायत



बिहार के भागलपुर जिले के एक गांव में  दर्जनभर महादलित महिलाओं को मंदिर में घुसने से पिछले शुक्रवार को रोक दिया गया गया था.  इन महिलाओं को  200 साल पुराने काली मंदिर में प्रवेश नहीं करने दिया गया. इसके बाद इन महिलाओं ने प्रशासन के समक्ष एक लिखित शिकायत दर्ज कराई और उनसे मामले में हस्तक्षेप करते हुए न्याय दिलाने की मांग की. मंदिर तीन जातियों के लोगों की जमीन पर बना है, जिनमें एक दलित जाति के परिवार की जमीन भी शामिल है. मुकेश कुमार की रिपोर्ट आइये सुनें क्या कहती हैं महिलायें:





स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह 'द मार्जिनलाइज्ड' नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. 'द मार्जिनलाइज्ड' मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का कार्य करती है.
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
लिंक  पर  जाकर सहयोग करें :  डोनेशन/ सदस्यता 

'द मार्जिनलाइज्ड' के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें :  फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें उपलब्ध हैं. ई बुक : दलित स्त्रीवाद 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com

Blogger द्वारा संचालित.