युवती की आत्महत्या की रिपोर्टिंग कर रहे दलित पत्रकार को ही पुलिस ने किया गिरफ्तार

स्त्रीकाल डेस्क 

महाराष्ट्र के अमरावती जिले के
पत्रकार प्रशांत कांबले को मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस ने अभी हाल में किया था सम्मानित, लेकिन फडनवीस की पुलिस ने उन्हें ही तब गिरफ्तार कर लिया, जब वह पिछले 17 तारीख को एक लड़की की आत्महत्या के बाद चांदूर रेलवे स्टेशन थाने पर विरोध-प्रदर्शन को कवर करने गए थे.  पुलिस ने उन्हें  और अन्य दो संवादाताओं को काम में बाधा डालने का आरोप लगाकर गिरफ्तार कर लिया.


प्रशांत ने पत्रकारिता की शुरुआत मुम्बई में  जय महाराष्ट्र नामक एक चैनल से शुरू की।  प्रशांत ने मुंबई की सफाई कर्मचारियों पर एक बेहतरीन स्टोरी  की थी। इस रिपोर्ट के बाद प्रशांत एक संवेदनशील पत्रकार के रूप में  सामने आए। उन्हें राज्य सरकार का उत्कृष्ट पुरस्कार भी प्राप्त हो चुका है। मुंबई के बाद वे अमरावती में एक जिलाप्रतिनिधि के रूप में में वापस आए, कारण था गृह जिला में वापसी। पत्रकारिता करते समय वे अपने गांव के विकास के लिए प्रशासकीय विभाग पर ज्यादा ध्यान दे रहे थे। जनता की समस्या छुडाने के लिए वे हमेशा तत्पर रह रहे थे। स्टिंग ऑपरेशन के जरिये उन्होने जिले के फर्जी चिकित्सकों का भी पर्दाफाश किया।

17 जून को प्रशांत के गांव की एक युवती ने आत्महत्या की। पूरे गांव को यह पता था कि युवती ने आत्महत्या क्यों। जिम्मेदार युवक को गिरफ्तार करने की मांग ग्रामवासियों ने उठाई थी . आत्महत्या चूकी ट्रेन  से कटकर हुई थी इसलिए जीआरपी और पुलिस के बाच खीचतान और एफआईआर दर्ज होने में विलम्ब से  जनसमुदाय भडक उठा.  पुलिस ने थाने के पास जमा भीड़ को शांत करने के लिए  लाठीचार्ज  आरंभ किया, जिसके बाद पत्थराव भी हुए । लाठीचार्ज  की रिपोर्टिंग कर रहे प्रशांत फस गए। पुलिस प्रशासन ने प्रशांत को ही भीड़ को उकसाने और सरकारी काम में बाधा डालने का आरोपी बना दिया और उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया.

प्रशांत स्त्रीकाल के लिए भी विदर्भ से इनपुट देते रहे हैं. पत्रकारों ने प्रशांत की गिरफ्तारी की निंदा की है और दोषियों पर कार्यवाई की मांग की है. प्रशांत की गिरफ्तारी तो हो गई लेकिन अभी तक युवती की आत्महत्या के दोषियों पर कार्यवाई नहीं हुई है.

स्त्रीकाल का संचालन 'द मार्जिनलाइज्ड' , ऐन इंस्टिट्यूट  फॉर  अल्टरनेटिव  रिसर्च  एंड  मीडिया  स्टडीज  के द्वारा होता  है .  इसके प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें : 

दलित स्त्रीवाद मेरा कमराजाति के प्रश्न पर कबीर

अमेजन पर ऑनलाइन महिषासुर,बहुजन साहित्य,पेरियार के प्रतिनिधि विचार और चिंतन के जनसरोकार सहित अन्य 
सभी  किताबें  उपलब्ध हैं. फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें उपलब्ध हैं.

दलित स्त्रीवाद किताब 'द मार्जिनलाइज्ड' से खरीदने पर विद्यार्थियों के लिए 200 रूपये में उपलब्ध कराई जायेगी.विद्यार्थियों को अपने शिक्षण संस्थान के आईकार्ड की कॉपी आर्डर के साथ उपलब्ध करानी होगी. अन्य किताबें भी 'द मार्जिनलाइज्ड' से संपर्क कर खरीदी जा सकती हैं. 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com
Blogger द्वारा संचालित.