पढ़ें जगरनॉट एप पर हिन्दी की बेहतरीन किताबें


 पूजा मेहरोत्रा

जगरनॉट बुक्स प्राइवेट लिमिटेड अपने हिंदी पाठकों के और करीब पहुंच गया है। उसने अपने पाठकों को जगरनॉट हिंदी एप की सौगात दी है। यह एप आसानी से स्मार्टफोन पर डाउनलोड हो रहा है। एप एनड्रॉयड और आईओएस प्लैटफ़ॉर्म के साथ-साथ www.juggernaut.in पर भी मौजूद है।

एप लांच के पहले महीने में पूरे एकमाह बेहतरीन लेखकों की 200 से अधिक किताबें आप मुफ्त में पढ़ सकते हैं।

एप पर कई जानी मानी हस्तियों की लिखी कहानियां, उपन्यास और आत्मकथा के साथ बदलते परिवेश की कई मजेदार किस्से कहानियां पढने को मिल रही हैं। जिसमें अभिनेत्री सनी लियोनी की कहानियाँ, इंडिया के सुपरफूड्स पर लिखनेवाली रुजुता दिवेकर की किताब, ज़िंदगी गुलज़ार है जैसे पाकिस्तानी टीवी शो की मशहूर लेखिका उमेरा अहमद के उपन्यास, विलियम डेलरिंपल और अनिता आनंद की लिखी किताब कोहिनूर के साथ साथ सेलीब्रिटी लेखकों अरुंधति रॉय, एपीजे अब्दुल कलाम, सुधा मूर्ति, कन्हैया कुमार, स्वदेश दीपक, नासिरा शर्मा, रोहित वेमुला, देवी प्रसाद मिश्रा और काशीनाथ सिंह की महत्वपूर्ण किताबें पहले महीने में मुफ्त में पढी जा सकती हैं। जून माह में जेब पर ज्यादा भार न डालते हुए बहुत कम दामों पर किताबें मौजूद होंगी, जबकि कुछ क्लासिक किताबें तब भी पाठक मुफ्त में ही पढ़ सकेंगे।

 2016 में लॉंच हुआ इंग्लिश एप पाठकों की खास पसंद बना हुआ है। इसपर मौजूदा एक्टिव यूजर्स की संख्या 770 हजार के आंकड़े को पार कर चुकी है। जबकि एप पर 5000 से अधिक अंग्रेज़ी इ बुक्स पढ़ी जा सकती हैं।

जगरनॉट बुक्स के एप पर पाठक किताबों को उसके कवर, प्रिव्यू और कैटेगरी के माध्यम से खोज, देख और पढ़ सकेंगे। आपको अगर दोस्तों को किताब उपहार में देनी है तो आप एप के माध्यम से आसानी से ऐसा कर सकेंगे। इसके साथ ही एप का खास फीचर पाठक और लेखक की दूरी को कम करते हुए पाठकों को सुविधा देता है कि वह अपने फेवरेट लेखक से सवाल करें और किताब पर अपनी प्रतिक्रिया दें, लेखक पाठकों की प्रतिक्रिया और सवालों के जवाब भी देंगे।

 जरुर पढ़े ये किताबें

एप पर आई अपनी किताब का इज़हार करते हुए जिंदगी लाइव के लेखक प्रियदर्शन कहते हैं-मेरी खुशकिस्मती है कि मैं  हिंदी के उन पहले लेखकों में हूं जिनकी किताब जगरनॅाट के ऐप पर आ रही है। बड़ी तेजी से बदलती और डिज़िटल होती दुनिया में ऐप आपको बहुत बड़े और अंतरराष्ट्रीय पाठक समुदाय से जोड़ सकते हैं। इत्तिफाक से मेरे उपन्यास 'ज़िंदगी लाइव' की प्रकृति भी इस तेज़ रफ़्तार माध्यम के अनुरूप है। हिंदी प्रकाशन के इस ऐतिहासिक प्रस्थान बिंदु का हिस्सा होना सुखद है।

जगरनॉट बुक्स की प्रकाशक चिकी सरकार कहती हैं, ‘मैं हिंदी के पाठकों के लिए जगरनॉट एप लांच करते हुए काफी उत्साहित हूं। मेरा मानना है कि हिंदी पाठकों का बाज़ार शायद इंग्लिश से भी बड़ा हो।’

‘कल मिलना मुझे’ की लेखिका प्रत्यक्षा- उत्साहित हूँ कि जगरनॉट पर किताब आ रही है. नये समय में नये माध्यम का इस्तेमाल बढ़िया है. कहानी, मोबाईल ही नया कागज़ है. उम्मीद है उपन्यास एक जादुई मोहब्बत की दुनिया की नशीली फंतासी में लीन कर दे पाठक को ।

जगरनॉट बुक्स की कार्यकारी संपादक हिंदी, रेणु आगाल कहती हैं, ‘हमें उम्मीद है कि ये लोगों के पढ़ने के तरीके को बदलेगा क्योंकि पहली बार हम ऐसा बुकशेल्फ तैयार कर रहे हैं, जिसमें सबकी पसंद का कुछ न कुछ है- रोमांस से लेकर क्लासिक तक, साहित्य और उपन्यास से लेकर राजनीतिज्ञों की जीवनी तक। और ये सब ऐसी कीमतों पर उपलब्ध होगा, जिनका जेब पर भी ज़्यादा भार नहीं पड़ेगा। अगर आप हिंदी की किताबें खोज रहे हैं तो आप को दूर जाने की, दुकान खोजने की ज़रुरत नहीं, ये आपके अपने स्मार्टफोन पर मिल जाएंगी।’

अपनी खुद की सामग्री के अलावा कई प्रमुख हिंदी प्रकाशकों जैसे प्रभात प्रकाशन और डायमंड बुक्स की किताबों के साथ साथ प्रतिष्ठित साहित्यिक पत्रिका तद्भव की चुनी हुई रचनाएँ किताबें  भी एप पर मिलेंगी।

 स्त्रीकाल का संचालन 'द मार्जिनलाइज्ड' , ऐन इंस्टिट्यूट  फॉर  अल्टरनेटिव  रिसर्च  एंड  मीडिया  स्टडीज  के द्वारा होता  है .  इसके प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें : 

दलित स्त्रीवाद मेरा कमराजाति के प्रश्न पर कबीर

अमेजन पर ऑनलाइन महिषासुर,बहुजन साहित्य,पेरियार के प्रतिनिधि विचार और चिंतन के जनसरोकार सहित अन्य 
सभी  किताबें  उपलब्ध हैं. फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें उपलब्ध हैं.

दलित स्त्रीवाद किताब 'द मार्जिनलाइज्ड' से खरीदने पर विद्यार्थियों के लिए 200 रूपये में उपलब्ध कराई जायेगी.विद्यार्थियों को अपने शिक्षण संस्थान के आईकार्ड की कॉपी आर्डर के साथ उपलब्ध करानी होगी. अन्य किताबें भी 'द मार्जिनलाइज्ड' से संपर्क कर खरीदी जा सकती हैं. 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com
Blogger द्वारा संचालित.