जरुर पढ़े ये किताबें



1.जाति कोई अफ़वाह नहीं
                                
किताब के बारे में 

रोहित वेमुला एक शानदार लेखक थे और उनका लेखन आधुनिक भारत में जाति की पीड़ादायक हक़ीक़त को बयान करता है। 17 जनवरी 2016 को खुदकुशी कर लेने वाले रोहित ने फेसबुक पर आठ साल के अपने लेखन के दौरान गाज़ा से लेकर गाज़ियाबाद तक, शायद ही कोई मुद्दा हो जिस पर टिप्पणी नहीं की हो। जाति से लेकर गाय की राजनीति तक पर लिखी गई पोस्टों में वे एक गज़ब की काव्यात्मक भाषा और रेडिकल नज़रिए के साथ अपनी बात कहते हैं, जिसमें ताज़गी है, मुद्दों को सुलझाने की एक ज़िद है और सवाल करने का अपार साहस है।

लेखक परिचय

रोहित वेमुला (26 वर्ष) हैदराबाद विश्वविद्यालय में एक होनहार शोधार्थी और एक छात्र नेता था, जो डॉ. बी.आर. आंबेडकर के जाति के खात्मे की लड़ाई में मजबूती से यकीन करता था। उसे विश्वविद्यालय कैंपस में होस्टल और सार्वजनिक जगहों से बहिष्कृत कर दिया गया था और 17 जनवरी 2016 को अपनी खुदकुशी के बाद वो दलितों के प्रति होनेवाले भेदभाव के खिलाफ व्यापक आंदोलन का चेहरा बन गया। रोहित की मां राधिका वेमुला और उसके छोटे भाई राजा वेमुला उसके इंसाफ़ की लड़ाई लड़ रहे हैं।

खास बातें

इस साल के सबसे चर्चित युवा शख्सियतों में से एक
पहली बार उनका लेखन प्रकाशित हो रहा है
देश भर में उनके इंसाफ के लिए चल रहे आंदोलन में लाखों युवा भाग ले रहे हैं। सबकी रुचि उनका लिखा पढ़ने में है।

 प्रकाशक :जगरनॉट बुक , लेखक: रोहित वेमुला, प्रकाशन:जनवरी 2017• कीमत:250• पृष्ठ 302

 2.शाह मोहम्मद का तांगा
   
  किताब के बारे में 

सतलुज में बाढ़ आई है और गांव ख़ाली हो गया है। क्या मदद का इंतज़ार करते बेसहारा क़ायम दीन को बचाने कोई आएगा या वो डूब जाएगा? तांगे वाला शाह मोहम्मद मोटर गाड़ियों की फंतासी में जीता था, लेकिन क्या हुआ जब फंतासी से निकल कर मोटर गाड़ियां उसके रास्ते में आ खड़ी हुईं?

इन कहानियों में कोई भी एक आदर्श किरदार नहीं है। दबे-कुचले तबकों से आने वाले इन किरदारों में अच्छाइयां भी हैं और बुराइयां भी। वे एक दूसरे से प्यार भी करते हैं और किसी की जान भी ले सकते हैं। अपनी सादगी में ये कहानियांप्रेमचंद के करीब हैं तो अपने कसैलेपन में मंटो की याद दिलाती हैं। नातिक़ अपनी इस शोहरत पर खरे उतरे हैं कि वे पाकिस्तानी अदब की दुनिया के सबसे चमकदार सितारे हैं।

लेखक परिचय

अली अकबर नातिक़ का जन्म 1974 में ओकारा, पाकिस्तान में हुआ था। मैट्रिक करने के बाद उन्होंने अपने परिवार के गुज़ारे के लिए एक राजमिस्त्री के रूप में काम करना शुरू किया और गुंबदों और मीनारों के माहिर मिस्त्री बन गए। उन्होंने उर्दू और अरबी साहित्य खूब पढ़ा और प्राइवेट से बीए की डिग्री हासिल की। उन्होंने उर्दू पत्रिकाओं में अपनी शुरुआती कहानियों और कविताओं के प्रकाशन के साथ ही साहित्य की दुनिया में अपना खास मुकाम बना लिया। उन्हें उर्दू में लिखने वाले बेहतरीन युवा लेखकों में से एक माना जाता है।

 खास बातें

पाकिस्तानी के सबसे मशहूर लेखकों में से एक
हिंदी में पहली बार प्रकाशित कहानी संग्रह
प्रेमचंद और मंटो की परंपरा की कहानियां

 प्रकाशक :जगरनॉट बुक, लेखक: अली अकबर नातिक़, प्रकाशन:जनवरी 2017• कीमत:250• पृष्ठ 204•

3 .ज़िंदगी लाइव
   26/11 की वह रात जो खत्म नहीं हुई

किताब के बारे में 

मुंबई 26/11 की रात। हर तरफ़ अफरा-तफरी का माहौल पसरा हुआ। वहीं दिल्ली में टीवी ऐंकर सुलभा और उनके रिपोर्टर पति विशाल काम की आपाधापी में अपने छोटे-से बेटे अभि को क्रेच से उठाना भूल जाते हैं। ये भूल बहुत भारी साबित होती है। उनका बेटा गुम हो जाता है और बाद में उसका अपहरण कर लिया जाता है। उसकी तलाश में वे बदहवास हो जाते हैं। क्या अभि उन्हें मिल जाएगा या ये उनके जीवन के सबसे भयावह दिन होंगे?

लेखक परिचय

प्रियदर्शन एनडीटीवी में कार्यरत एक वरिष्ठ पत्रकार हैं और एक वरिष्ठ लेखक और कवि हैं। विभिन्न प्रकाशनों से उनकी कई फिक्शन और नॉनफिक्शन किताबें छप चुकी है। इसके अलावा वे जाने मानी कृतियों का अनुवाद भी कर चुके हैं।

खास बातें

 • यह एक अपराध कथा है जो बड़ी तेजी से आगे बढ़ती और रोमांचक मोड़ लेती है
• इस कहानी की पृष्ठभूमि 26/11 के मुंबई हमले हैं
• लेखक एक जानेमाने टीवी पत्रकार और कवि हैं


 प्रकाशक :जगरनॉट बुक, लेखक: प्रियदर्शन, प्रकाशन: अक्तूबर 2016 • कीमत:250• पृष्ठ 258•

4.लक्ष्मी प्रसाद की अमर दास्तान 

किताब के बारे में 

एक दुबली और लंबी सी लड़की पूरे गांव को बदल देती है. अड़सठ साल की बूढ़ी नोनी आपा एक शादीशुदा आदमी की ओर आकर्षित हैं और सोचती हैं कि रिश्तों को परिभाषित करना ज़रूरी क्यों है. बबलू केवट का परिवार आतंकित है कि उसपर सेनिटरीनैपकिन्स का जुनून सवार है और पांच शादियां करनेवाली एक नौजवान लड़की अपनी हरेक शादी के मंसूबे बनाते वक्त मौसम की भविष्यवाणियों पर नज़र रखती है. इस मज़ेदार, बारीक निगाहों वाली और समझदार क़िस्सागोई से आप खुद को दूर नहीं रख सकेंगे.

लेखक परिचय

ट्विंकलखन्ना एक मशहूर स्तंभकार और बेस्टसेलिंग किताब मिसेज़फनीबोन्स की लेखिका हैं। वे मुंबई में रहती हैं।

खास बातें

• ये अंग्रेजी की बेस्टसेलर कहानियां हैं
• ट्विंकलखन्ना के प्रशंसकोंकी एक बड़ी तादाद है और लोग उनकी लिखी रचनाएं पसंद करते हैं


 प्रकाशक :जगरनॉट बुक, लेखक:ट्विंकलखन्ना, प्रकाशन:फरवरी 2017• कीमत:250• पृष्ठ 240•
   
प्रस्तुति :मनीषा कुमारी 

स्त्रीकाल का संचालन 'द मार्जिनलाइज्ड' , ऐन इंस्टिट्यूट  फॉर  अल्टरनेटिव  रिसर्च  एंड  मीडिया  स्टडीज  के द्वारा होता  है .  इसके प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें : 

दलित स्त्रीवाद मेरा कमराजाति के प्रश्न पर कबीर
अमेजन पर ऑनलाइन महिषासुर,बहुजन साहित्य,पेरियार के प्रतिनिधि विचार और चिंतन के जनसरोकार सहित अन्य सभी  किताबें  उपलब्ध हैं. फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें उपलब्ध हैं.
दलित स्त्रीवाद किताब 'द मार्जिनलाइज्ड' से खरीदने पर विद्यार्थियों के लिए 200 रूपये में उपलब्ध कराई जायेगी.विद्यार्थियों को अपने शिक्षण संस्थान के आईकार्ड की कॉपी आर्डर के साथ उपलब्ध करानी होगी. अन्य किताबें भी 'द मार्जिनलाइज्ड' से संपर्क कर खरीदी जा सकती हैं. 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com 
Blogger द्वारा संचालित.